गोविंदा को किसी ज़माने में टक्कर देने वाला ये हीरो आज जी रहा है गुमनामी की ज़िन्दगी

एक ऐसा भी समय था जब ये हीरो परदे पर उतरता था तो धूम मचा देता था. लोग इस हीरो के दीवाने थे. इसमें एक्टिंग जोश और टैलेंट की कोई कमी नहीं थी. यहाँ तक की कॉमेडी किंग गोविंदा तक को इसने कड़ी टक्कर भी दी थी. जब ये हीरो पर्दे पर आता था तो लोग उसे बस देखते ही रहते थे.

लड़कियां भी इसके मासूम से चेहरे पर फ़िदा थी. एक्टिंग भी बेमिसाल करता था लेकिन इस सभी के बावजूद भी ये बॉलीवुड में ज़्यादा वक़्त तक टिक नहीं पाया. यही तो लीला है फ़िल्मी नगरी की. यहाँ कब क्या होजाये किसी को ना पता होता है और ना समझ आता है. जिस एक्टर की हम बात कर रहे हैं वो है हरीश कुमार.

हरीश ने अपना करियर उस वक़्त की मशहूर अदाकारा करिश्मा कपूर के साथ शुरू किया था. धीरे धीरे वो सफलता की सीढियाँ चढ़ते गए. उन्होंने गोविंदा जैसे पॉपुलर एक्टर के साथ भी काम किया.

परन्तु कई बड़ी फिल्मों का हिस्सा रहने के बावजूद आखिरकार हरीश लाइमलाइट से गायब हो गए. आज हम आपको बताएँगे की अब वो कहाँ हैं और क्या कर रहे हैं. आईये जानते हैं पूरी बात.

महज़ 15 साल की उम्र से ही हरीश को हीरो के रोल मिलने लग गए थे. उन्होंने छोटी ही उम्र में अपनी प्रतिभा लोगों के सामने साबित कर दी थी. उनकी पहली फिल्म थी तेलुगू फिल्म ‘प्रेम कैदी’ जो फ़िल्मी परदे पर ज़बरदस्त हिट रही. इसके बाद इस फिल्म को हिंदी में भी बनाया गया और इस बार उनके साथ हीरोइन थी करिश्मा कपूर.

करिश्मा कपूर ने अपने करियर की शुरुवात तो उनके साथ की ही इसके बाद भी दोनों ने कई फिल्मों में काम किया. ये फिल्म रिलीज़ हुई और एक सुपरहिट साबित हुई. ‘प्रेम कैदी’ ने दोनों के करियर को एक नयी उड़ान दी.

हरीश के दशक के जाने माने हीरो थे. उन्होंने इस मुकाम को हांसिल करने के लिए बहुत कड़ा संघर्ष किया. लेकिन बाद में उन्हें कई मुश्किलों से भी गुज़ारना पड़ा. वो गोविंदा के साथ फिल्म ‘कुली नंबर 1’ में नज़र आये थे. इस फिल्म में गोविंदा ने तो सबको प्रभावित किया ही और हरीश की एक्टिंग ने भी लोगों को खूब हसाया.

कुमार ने दिग्गज कलाकारों के साथ काम किया और उनकी फिल्में बॉक्स ऑफिस पर हिट भी रही. उन्होंने हिंदी फिल्मों के साथ साथ तेलगु फिल्में भी की. हरीश भी अपने ज़माने में बहुत पॉपुलर थे उन्होंने नाम और पैसा दोनों खूब कमाया. लेकिन वो अब लाइमलाइट से दूर जी रहे हैं गुमनामी की ज़िन्दगी.

उनके करियर ठप होने का कारण वो खुद ही थे. उन्होंने अपनी पिसीके पर ध्यान नहीं दिया और बाद में वो काफी मोठे हो गए.

इस वजह से उन्हें काम मिलना भी बंद हो गया. उन्होंने अपनी आखिरी फिल्म ‘इन्तेक़ाम’ में 2001 काम किया था. इसके बाद उन्हें कोई भी फिल्मों के ऑफर आने बंद हो गए.

Comments

comments