AC रूम में रहने वाले लोगो को हो सकती हैं ये 6 खतरनाक बीमारियां

जैसा की आप सब जानते हैं जून की गर्मी बहुत ही खतरनाक होती है लोगो का घरो से बहार निकलना मुश्किल हो जाता है ऐसे में कुछ लोग अपने घरो के कमरों में ए सी लगा लेते हैं गर्मी के दिनों में हम अक्सर AC में रहना पसंद करते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि एसी कमरे में रहना भी बीमारियों को न्यौता देना है. कुछ ऐसी बीमारियां हैं जो ए सी रूम्स में रहने से ही होती हैं | आइये हम आपको बताते हैं की क्या क्या बीमारियां हो सकती हैं ए सी में रहने से |

AC Roomssource

1. जोड़ो में दर्द होता है |

ये तो आप सब जानते ही होंगे की ए सी में लगातार रहने से हमें उसकी आदत हो जाती और सिर्फ हमें ही नहीं बल्कि हमारे शरीर को भी ए सी में रहने की आदत हो जाती है AC के लगातार कम तापमान में रहने से न सिर्फ घुटनों की समस्या होती है, बल्कि शरीर के सभी जोड़ों में दर्द के साथ-साथ अकड़न पैदा करता है और उनकी कार्यक्षमता धीरे-धीरे कम होने लगती है और अन्य बीमारियां भी होती हैं जो की आपो हम आगे बताएंगे |

source

2. इम्यून सिस्टम कमजोर होता है

शायद आपको ये बात पता नहीं होगी की ए सी में रहने से एक और बड़ा घाटा ये भी है की ए सी में रहने से हमारा इम्यून सिस्टम भी खराब या फिर कमजोर हो जाता है और ये तो आपको पता ही होगा की इम्युनिटी के कमजोर होने से आप बीमार भी पड़ सकते हैं |

source

3. फैट बढ़ता है

आपको शायद ये बात पता ही होगी की ए सी में रहने से हमारा मोटापा बढ़ता है क्यों की ए सी रूम में रहने से हमारा शरीर गर्म नहीं होता है और इसी वजह से हमारी चर्बी भी कम नहीं होती और मोटापा कम नहीं होता |

source

4. इन्फेक्शन होने का खतरा रहता है

आपको बतादू ए सी रूम में हर समय रहने से साइनस इंफेक्शन होने की सम्भावना अधिक हो जाती है क्‍योंकि बहुत देर तक ठंड में रहने से मांसपेशियां सख्त हो जाती हैं |

source

5. थकान हमेशा रहती है

अधिक देर तक एसी में बैठने पर फ्रेश एयर सर्कुलेट नहीं हो पाती है | लंबे समय तक एसी में रहने से आपको थकान बने रहने की समस्या हो सकती है और आपको बतादे इसका तापमान कम ज्यादा करने से भी दिक्कते हो सकती हैं |

source

6. दिमाग कमजोर होता है |

ए सी में रहने से दिमाग के काम करने की शमता भी कमजोर हो जाती है |

source

अगर आपको हमारा ये पोस्ट भी पसंद आया तो कृपया कमेंट और शेयर करना न भूलें धन्यवाद |

Comments

comments