देखिये ‘भाभीजी घर पर हैं’ के सक्सेना जी असल ज़िन्दगी में हैं ऐसे

टीवी के सबसे पसंदीदा शो ‘भाभी जी घर पर हैं’अपने खास अंदाज़ से ‘I like It’ को लोगों की ज़ुबान पर चढ़ा देने वाले भाबी जी घर पर हैं सीरियल के अनोखे लाल सक्सेना उर्फ सानंद वर्मा असल ज़िंदगी में बहुत एकांत प्रिय हैं।

सक्सेना बनकर ये जितनी उल्टी-सीधी हरकतें करते हैं, असल ज़िंदगी में उतने ही सुलझे हुए इंसान हैं. सक्सेना के किरदार से सानंद वर्मा ने लोगों के दिल में एक खास जगह बना ली ही। तो चलिए आपको मिलाते हैं करंट पर जीने वाले सक्सेना जी उर्फ सानंद वर्मा से और उनकी असल लाइफस्टाइल से.

source

सानंद वर्मा आज भले ही स्टारडम भरी जिंदगी जी रहे हैं, लेकिन उनकी जिंदगी काफी उथल-पुथल भरी रही है. मात्र 8 साल की उम्र में ही सानंद वर्मा ने काम करना शुरू कर दिया था जिसकी वजह से वो अपना स्कूल भी अटेंड नहीं कर पाते थे.

बावजूद इसके उन्होंने अपनी पढ़ाई को छूटने नहीं दिया.सानंद वर्मा ने जो कुछ भी सीखा अपनी जिंदगी के अनुभवों से सीखा.अपने पिता की वजह से सानंद वर्मा कुछ भी नहीं कर पाए. उनके पिता जिस भी काम में हाथ डालते उसमें असफलता ही मिलती.

source

सानंद का कहना है कि मुझे लोगों से बहुत अच्छा रिस्पांस मिल रहा है.फिर चाहे फेसबुक हो या ट्विटर, मैं जहां भी जाता हूं, मुझे लोगों से बहुत प्यार मिलता है.इस सीरियल की वजह से लोग मुझे पहचानने लगे हैं.मुझे खुशी है कि लोग इस सीरियल और मेरे किरदार को काफी पसंद कर रहे हैं. मैंने इस रोल के लिए तैयारी ज़रूर की है.

इस रोल की खासियत ये है कि देखने में सक्सेना बहुत नॉर्मल लगता है, लेकिन एक दम ही इसे ऐसे दौरे पड़ते हैं जैसे मार खाने में इसे मजा आता है, करंट खाने में इसे खुशी मिलती है. इस रोल के लिए चैलेंज ये था कि ऑवर द टॉप भी नहीं लगना चाहिए और लोगों को ये भी यकीन दिलाना था कि इस तरह का किरदार रियल लाइफ में भी हो सकता है.

अब जैसे शो में मेरे पास एक पालतू सांप है और मैं इस सांप का सारा ज़हर निकालकर पी चुका हूं (हंसते हुए). मैं दाल-चावल नहीं खाता, करंट ही मेरा खाना है.

source

खैर, इन सब मुश्किलों से सानंद वर्मा घबराए नहीं और कठिनाईयों को दरिया पार कर वो मुकाम हासिल किया जिस तक पहुंचने में एक आम इंसान को सालों लग जाएंगे.सानंद वर्मा ने जो हासिल किया है उसे देखकर ये तो जरूर कहा जा सकता है, ‘कौन कहता है आसमां में सुराग नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों.’

Comments

comments