पुलिस ने किया चोटी काटने पर बड़ा खुलासा इसके पीछे न भूत-प्रेत-चुड़ैल और न ही इंसान है

चोटी काटने के मामले तो आए दिन आ ही रहे हैं। पिछले कुछ दिनों में देश के कई राज्यों में चोटी काटने के मामले जोर पकड़ रहे हैं। एक मामला आया है चोटी काटने वाला ग्रेटर नोएडा के अरच्छेजा गांव में जहां पर चोटी काटने की घटना हुई थी। इस घटना के बाद पुलिस ने जांच के बाद एक चौंकाने वाला बयान दिया है।

बादलपुर कोतवाली प्रभारी के के राणा ने कहा है कि जो बाल काटने की घटना हो रही है वह बरसात की वजह से हो रही है। मतलब की बरसात में मैकी कीड़े निकलने की वजह से बाल कट रहे हैं। बादलपुर के पुलिस अधिकारी ने इस बात का दावा करते हुए कहा है कि राजस्थान सरकार के नाम से सोशल मीडिया पर डाले एक पोस्ट का हवाला देते हुए बोल रहे हैं। बता दें कि पुलिस के व्हाट्सएप ग्रुप पर भी इस पोस्ट को शेयर किया गया है।

बाल काटने की इस घटनाओं की वजह से राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली और उप्र में दहशत मचाया हुआ है। बाल काटने की घटना को लेकर आगरा में एक वृद्धा की हत्या भी हो चुकी है। इन घटनाओं को लेकर पुलिस ने यह दावा किया है कि यह सब कुछ एक मैकी नाम के कीड़े की वजह से हो रही हैं।  बता दें कि एक ही गांव में ऐसे बाल काटने के दो मामले सामने आए हैं। उसके बाद बादलपुर कोतवाली प्रभारी के के राणा ने मौके पर जाकर पड़ताल की है।

राणा के अनुसार छात्रा शिखा के घरवालों ने इस मामले में अभी तक कोई भी लिखित शिकायत देने से मना कर दिया है। और दूसरी तरफ सोनी के घरवाले दूसे परिवार वालों पर आरोप लगा रहे थे लेकिन उन्होंने भी लिखित में समझौता कर लिया था। राणा ने कहा कि जब यह बरसाती मैकी कीड़ा बालों में चलता है तो उस जगह से बाल कट जाते हैं।

अफवाहों पर रोक लगानी होगी हरियाणा, दिल्ली व राजस्थान के बाद अब ग्रेटर नोएडा के गांव अच्छेजा में तीन दिन पहले एक लड़की की चोटी कटने और बीती रात में इंटरमीडिएट की छात्रा की चोटी कटने की घटना सामने आई है। बीती रात हुई घटना के बाद अच्छेजा और आसपास के गावों में इसी पर चर्चा हो रही है। इस घटना पर गांव के लोगों ने भी अपने विचार दिए हैं। इस मामले पर काफी लोगों ने अफवाहों पर रोक लगाने के लिए बोला है। उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं के बाद अफवाहें तेजी से फैलती हैं जिन्हें मिलकर रोका जाना चाहिए।

घटना समझ के परे

राजपाल, पीड़ित शिखा छात्रा के पिता ने कहा है कि बाल काटने की घटना समझ से परे है। घर का मेन गेट बंद था। बेटी अपनी दादी और माता के पास चारपाई पर सो रही थी। बाल कटने के बाद भी शिखा कॉलेज जाने के लिए तैयार हो गई, लेकिन बाद में उसे रोक लिया। हमारी किसी से कोई दुश्मनी भी नहीं है।

अफवाह बनाकर बढ़ावा नहीं देना चाहिए

राधे नागर, निवासी अच्छेजा ने कहा है कि गांव की लड़कियों के बाल कटने की घटना परेशान करने लायक है, फिर भी अफवाह बनाकर बढ़ावा नहीं देना चाहिए। अन्य जगहों पर जो चोटी कटने की बात सामने आ रही है। ऐसी खबरों का असर बच्चों पर पड़ता है।

सहयोग करें ग्रामीण

बाबू सिंह निवासी, अच्छेजा ने कहा है कि गांव में बाल कटने के मामले को शांत करने में सभी ग्रामीणों को सहयोग करना चाहिए। ऐसे मामलों में छात्र-छात्राओं को विश्वास नहीं करना चाहिए, जिससे उनके काम प्रभावित न हों। अपने काम पर ध्यान दें।

डरें नहीं, मजबूत बनें

ज्योति नागर, निवासी अच्छेजा  ने कहा है कि बाल कटने जैसी घटनाओं से डरने की कोई बात नहीं है। ऐसी घटनाओं पर विराम लगाने के लिए महिलाओं को मजबूत होना होगा। कई बार ऐसे मामले आते रहते हैं उन पर ध्यान नहीं देना चाहिए। गांव में अगर कोई घटना होती है तो उसके लिए महिला डरे नहीं, बल्कि हिम्मत का परिचय दें।

Comments

comments