मिलिए भगवान् राम के वंशज से.. ऐसी रॉयल लाइफ जीता है यह राजपरिवार

भारत के आज़ादी के बाद से ही राजशाही ख़तम हो गयी थी और डेमोक्रेसी आ गयी थी. अब किसी राज्य को कोई राजा नहीं बल्कि जनता द्वारा चुना गया एक मिनिस्टर संभालता है. पर आज भी भारत में कुछ राज्य ऐसे है जहाँ आज भी राजा होते है. हालांकि वह अब राज नहीं करते पर लोग उन्हें अपना राजा ही माने है.

source

ऐसे ही है जयपुर की महारानी पद्मिनी देवी. उन्होंने एक इंटरव्यू में बताया था की वह भगवान् राम के वंशक है. आइये विस्तार से बतातें ही आपको उनके बारे में.

जयपुर के पूर्व महाराज भवानी सिंह जो की उनके पति थे वह भगवान् राम के बेटे कुश के 309 वे वंशज थे. महाराज की मृत्यु के बाद से ही जयपुर घराने को महारानी पद्मिनी देवी उनके बेटे के द्वारा सब कुछ संभाल रही है.

आज भी राज परिवार की तरह मानती है जनता

source

मानसिंघ जी का जन्म 21 अगस्त 1912 को हुआ था. उन्होंने तीन शादियां की थी। पहली शादी 12 साल की उम्र में जोधपुर के महाराजा सुमेर सिंह की बहन मरुधर कंवर से हुई थी. उन्होंने फिर दूसरी शादी 1932 में पहली पत्नी की भतीजी किशोर कंवर से की. तीसरी शादी 1940 में गायत्री देवी से की.

अक्सर मिलने आते है बॉलीवुड के स्टार्स

source

पद्मिनी देवी की शादी महाराजा सवाई मानसिंह और उनकी पहली पत्नी मरुधर कंवर के बेटे से हुई थी. दीया कुमारी उनकी इकलौती बेटी थी. दीया की शादी नरेंद्र सिंह से हुई।

source

उनके दो बेटे है जिनका नाम पद्मनाभ सिंह और लक्ष्यराज सिंह हैं और एक बेटी हैं गौरवी. दिया के बड़े बेटे पद्मनाभ सिंह 12 साल की उम्र से ही जयपुर रियासत संभालने लगे थे.

पद्मिनी देवी की बेटी दिया है एमएलए

source

ये परिवार जयपुर में होने वाली रॉयल पार्टीज में अक्सर दिखाई देते है. महारानी पद्मिनी देवी शहर में होने वाले कार्यक्रमों में चीफ गेस्ट बनकर जाती है. दिया कुमारी के बेटे पद्मनाभ सिंह इंडिया तरफ से पोलो टीम खेलते है. पद्मिनी देवी की बेटी दिया एमएलए हैं। वे अक्सर राजस्थान में होने वाले कई इवेंट्स में दिखती हैं.

Comments

comments